महामारी का साथी

 

कोरोना महामारी ने हम सबको अपनो से दूर  रखा, छात्रो को शिक्षा से दूर रखा, कर्मचारी अपने काम से दूर हो गये, हर किसी को अपनी दुनिया से दूर रखा, लेकिन दूर होकर भी हम  सब पास थे। हम सबको जोड़ने का जरिया टेक्नोलॉजी है। स्मार्ट फ़ोन से लेकर लैपटॉप इस टेक्नोलॉजी ने हमे हमारे काम से जुड़ने का एक और मोका दिया।

ऑनलाइन क्लास या वर्क फ्रॉम होम ने हम सबको इसको लेने पर मजबूर किया। लेकिन हमें कौन सी कंपनी का कौन सा मॉडल लेना चाहिये इस बात की जानकारी हमें जरूर होनी चाहिये I

 

लैपटॉप का बदलता स्वरूप

हम इस महामारी में काम को निष्ठापूर्वक कर सके इसलिए 2021 में हर प्रकार के लैपटॉप का आविष्कार किया गया है |

जिन लोगो को गेम मै रुचि है उनके  लिये ऐसे कहि लैपटॉप है जो उनके काम को आसानी से कर सके ये उनके लिये भी है जो गेम डिजाईन, म्यूज़िक एडिटींग जेसे खाई काम किये जा सकते है।

              

नाम वजन प्राथमिक मेमोरी           
एसर नाइट्रो 5 एन 515-56 2.2 केजी     8 जीबी रैम                                                                                   512 जीबी SSD                                                     
•15-एसी 1051 अ एक्स 1.9केजी 8 जीबी रैम और                                                                        512 जीबी SSD 

 

गेमिंग के लिये ही नही लेकिन 2021 में छात्रों के लिये भी  नये लैपटॉप आए जिससे वो भविष्य में हर काम को आनंदपूर्वक कर सके, ऐसी कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े जो एक छात्र को शिक्षा से दूर करे|

 

नाम आकार प्राथमिक मेमोरी
लेनोवो थिंकपैड ई 15 15.6 इंच 8 जीबी रैम                                                                    128 जीबी SSD
एलजी ग्राम 14जेड90 14 इंच 8 जीबी रैम                                                                                256 जीबी SSD

        इसका वजन सबसे कम है लेकिन इसकी बैटरी लाइफ 23 घंटे है|

इसकी जरूरत तो सबको है लेकिन कुछ लोगो को बजट जैसी     मुश्किलों का सामना  करना पड़ता है। इन सब का ध्यान देते हुए ऐसी लैपटॉप का आविष्कार किया गया जो हमारे काम को आसान कर सकें और बजट मै भी हो|

 

नाम आकार प्राथमिक मेमोरी
एचपी 15 15 एस- जी आर 0012 एयू 15.6इंच 8 जीबी रैम 

256 जीबी SSD

आसुस वीवोबुक 14 एक्स 415 जे ए-इके092टी एस 14 इंच 8 जीबी रैम

 

लैपटॉप आज से या कल से नही है ये वर्ष 1980 में पहले नोटबुक कंप्यूटर को विकसित किया गया था 1983 के बाद कई अन्य तकनीक एवं फीचर्स लैपटॉप में जोड़े गए। जिसमें टचपैड, पॉइंटिंग स्टिक, हैंडराइटिंग रिकॉग्निशन आदि शामिल थे। 

लेकिन हर चीज़ की एहमियत हमे तब महसूस होती है जब उसकी जरूरते बढ जती है।इसी तरह हमे इसकी  जरुरत का पता लगा की अब वो समय आ गया है | जहा हम इससे दूर नही हो सकते

 

सपनो की बदलती दुनिया

जो  लोग टेक्नोलॉजी क बारे मै ना जनते थे। वो भी इससे जुड़  गये है। क्युकी कोई अपने सपनो को अपने से दूर नही करना चहता इस कोरोना की महामारी मै एक यही  जरिय है|

जिस टेक्नोलॉजी से हम आने वाले कुछ सालों बाद जुडते ।इस महामारी ने हमे  इन 2 साल मै जोड़ दिया है।

सुबह से लेकर शाम तक जो हम लैपटॉप का इस्तेमाल करते है। इसलिए हमें हमारी जरूरत को ध्यान में रख कर लेना चाहिए|