Category: Literature

सुकून दे जाता है

नसीब हमेशा साथ नहीं देता है, कभी हँसाता है तो कभी रुला जाता है। मगर तू मुझे नसीब पे नहीं खुद पे यकिन् दिलाता है। दिन भर की थकान के बाद तुजसे लिपट ना अलग सुकून दे जाता है । जब भी उम्मीद छोड ने लगती हूँ , हर आशा निराशा में बदल...

Read More
Loading