महामारी के साथ ही हमारे जीवन में एक बड़ा बदलाव आया है, हालांकि, एक वर्ष से अधिक के अंतराल के बाद, कोविड प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए वापस सामान्य होने के बाद, शिक्षकों के साथ-साथ छात्रों को भी उत्साह से भर दिया।जिसके चलते नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मास कम्यूनिकेशन एंड जर्नलिज़म का का 9वां दीक्षांत समारोह रविवार, 5 सितंबर 2021 को आयोजित किया गया । इस दीक्षांत समारोह में 11 और 12 PGDMCJ बैच के विद्यार्थियों को डिप्लोमा प्रदान की गई । जिसमें कुल 41 विद्यार्थियों को डिप्लोमा दिया गया और 6 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक प्रदान किए गए । जिसमें 4 छात्राएं व 2 छात्रों का नाम शामिल है जो सेना में कर्नल है। 

विद्यार्थियों के नाम इस प्रकार है: बैच 11 में कर्नल नीरेंद्र नाथ ने प्रिन्ट में , निकिता बैड ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में व शिना उत्तवानी ने ऐड व पब्लिक रीलैशन में प्रथम स्थान प्राप्त किया, वहीं बैच 12 में सागरिका पाटील ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में, उत्कर्षा नागरकर ने ऐड्वर्टाइज़िंग एण्ड पब्लिक रीलैशन में व कर्नल राकेश चंदेर ने प्रिन्ट मीडिया स्वर्ण पदक अपने नाम किया। 

NIMCJ ने मीडिया के सभी क्षेत्रों में, चाहे वह प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, विज्ञापन हो या डिजिटल में अपना गौरवशाली प्रभाव डाला है। करीब 17 छात्रों ने अपना खुद का स्टार्टअप भी स्थापित किया है। 

डिग्री वितरण के बाद श्री प्रकाश वरमोरा सर ने आने वाले जन संचारक को संबोधित किया। उनका मानना है कि, इरादे संचार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और उन इरादों को सही तरीके से निर्देशित करना ही सफलता की ओर आगे बढ़ाता है। 

इंडिया टुडे के वरिष्ठ संपादक श्री अनिलेश महाजन ने छात्रों का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि जितना हो सके प्रश्न लाना और उत्तर खोजने की दिशा में भी काम करते रहना कितना महत्त्वपूर्ण है। और दूसरी महत्त्वपूर्ण बात यह कही कि समाज को साथ लेकर चलना और समाज को समझने से हम बेहतर तरीके से इस पेशे में निर्वहन कर पाएंगे। 

अंतःकरण से बात करते हुए श्री अनिलेश महाजन जी ने कहा- “नैतिकता का बैलेंस बनाना बहुत महत्वपूर्ण है। आप बच्चो से मुझे बहुत उम्मीद है कि आप सब अपना स्टार्टअप स्थापित करेंगे। यहीं नहीं इतिहास के साथ-साथ अर्थशास्त्र पढ़ना भी बहुत महत्त्वपूर्ण है।” 

NIMCJ की सफलता व विकास को देखते हुए उन्होंने कहा, “मेरा विचार है कि यह एक बहुत अच्छा प्रयास है, 14 साल से नये पत्रकार, नये PR प्रोफेशनलस, AD प्रोफेशनलस मार्केट को दे रहे है। अच्छे शिक्षकों के साथ अच्छा पाठ्यकरम् और सही प्रयास है समाज को नैतिक मूल्यों के साथ प्रोफेशनलस दिये जा रहे है।”

अंतःकरण के साथ बातचीत में, दोनों स्वर्ण पदक विजेता बैच 11 की छात्रा  शिना उत्तवानी और बैच 12 की छात्रा उत्कर्षा  नागरकर ने NIMCJ के प्रति आभार व्यक्त किया और अपने जूनियर्स को प्रोत्साहन भी किया। यह पूछे जाने पर कि उनका वर्तमान जीवन कैसा चल रहा है, शिना ने कहा, “मैं अपना सारा काम घर से ही कर रही हू, घर से काम करने से हम परिवार के साथ समय बिता रहे हैं, हालांकि, ज़िम्मेदारिया बहुत हैं पर हमें हमेशा आगे बढ़ते रहना चाहिए!”